Skip to main content

विश्वास क्या होता है? क्या कभी अपने और किसी और के विश्वास को सत्य में बदलते हुए देखा या महसूस किया है?

 प्रचुरता का सिद्धांत



एक बार एक आदमी रेगिस्तान में भटक गया। दो दिन से उसकी कुप्पी में पानी भी खत्म हो गया था और उस व्यक्ति को ये महसूस होने लगा था कि उसका अंतिम समय निकट आ गया है। वह जानता था कि अगर उसे जल्द ही पानी नहीं मिला तो उसकी मृत्यु निश्चित है। 


कुछ दिनों तक रेगिस्तान में भटकने के बाद उस आदमी को थोड़ी सी दूरी पर एक छोटी सी झोपड़ी दिखाई दी। लेकिन झोपड़ी देखने के बाद भी उस व्यक्ति को लगा कि कहीं ये उसका भ्रम तो नहीं है। लेकिन कोई अन्य विकल्प न होने के कारण, वह उस झोपड़ी की ओर बढ़ गया। जैसे ही वह करीब आया, उसने महसूस किया कि यह उसका भ्रम नहीं है बल्कि हकीकत में वहाँ पर एक झोपड़ी थी। उस व्यक्ति के पास इतनी भी ताकत नहीं थी कि वह झोपड़ी के दरवाजे तक पहुँच सके लेकिन उस व्यक्ति ने अपने अंदर बहुत हिम्मत जुटाई और अपनी पूरी ताकत लगा दी उस झोपड़ी के दरवाजे तक पहुँचने के लिए।


झोपड़ी में कोई भी नहीं था। ऐसा लग रहा था कि काफी समय से कोई भी इस झोपड़ी में नहीं आया है। वह आदमी उस झोपड़ी में घुस गया, इस उम्मीद के साथ कि उसे अंदर पानी मिल सकता है।


जब उसने झोपड़ी में पानी का हैंडपंप देखा तो उसके दिल की धड़कन तेज हो गई। वहाँ पर एक पाइप था जो फर्श से नीचे जा रहा था, शायद भूमि के अंदर पानी के स्रोत तक पहुँचने के लिए होगा।


उस व्यक्ति ने पानी निकलने की आशा के साथ हैंडपंप चलाना शुरू किया, लेकिन पानी नहीं निकला। वह  कोशिश करता रहा लेकिन उसे सफ़लता नहीं मिली। अंत में उस व्यक्ति ने थकावट और हताशा से हार मान ली। उस व्यक्ति ने निराशा से  अपने हाथ खड़े कर दिए। ऐसा लग रहा था कि अब वह व्यक्ति मरने ही वाला है।


तभी उस आदमी ने झोंपड़ी के एक कोने में एक बोतल देखी। ऐसा लग रहा था कि उस बोतल को पानी से भरने के बाद वाष्पीकरण को रोकने के लिए उसके मुँह को बंद कर दिया गया था।


उसने बोतल को खोल दिया और वह मीठा जीवन देने वाला पानी पीने ही वाला था कि उसने देखा कि कागज का एक टुकड़ा बोतल से बंधा हुआ था। कागज पर लिखा था- "पंप शुरू करने के लिए इस पानी का उपयोग करें। जब हैंडपंप से पानी निकलने लगे तो आप बोतल भरना न भूलें।"


कागज में जो लिखा था उस को पढ़कर वह व्यक्ति दुविधा में आ गया। उस व्यक्ति को ये समझ नहीं आ रहा था कि वह निर्देशों का पालन करे, या वह इसे अनदेखा करे और पानी पी कर अपनी मंजिल की ओर बढ़ जाए।


वह सोचने लगा कि वह क्या करे? अगर उसने बोतल के पानी को पंप में डाल दिया, तो इस बात में कितनी सच्चाई है कि पानी डालने से हैंडपंप काम करने लगेगा? अगर पंप खराब हुआ तो क्या होगा? क्या होगा अगर पाइप में रिसाव हो और पूरा पानी बह जाये? क्या होगा यदि भूमि के नीचे का जलाशय सूख गया हो?


लेकिन दूसरी तरफ उसके मन में कुछ ओर विचार भी आने लगे। वह व्यक्ति सोचने लगा कि ये निर्देश सही भी हो सकते हैं । क्या उसे जोखिम उठाना चाहिए? अगर यह निर्देश गलत निकले, तो उसके पास अपनी जान बचाने के लिए जो थोड़ा पानी है, वह भी खत्म हो जाएगा।


लेकिन उस व्यक्ति ने कागज पर लिखे हुए निर्देशों एवँ ईश्वर पर विश्वास करते हुए अपने कांपते हाथ से उस पंप में पानी डाला और अपनी आँखें बंद कर के ईश्वर से प्रार्थना करते हुए पंप चलाने लगा। उसने गड़गड़ाहट की आवाज सुनी, और फिर पानी बाहर निकला, जितना वह संभवतः उपयोग कर सकता था, उससे काफ़ी अधिक। वह अपने चारों तरफ ठंडक और ताज़गी का अनुभव करने लगा क्योंकि उसे लगने लगा था कि उसे जीवन दान मिल गया है।


उसने पेट भरकर पानी पिया। अब वह व्यक्ति बहुत अच्छा महसूस करने लगा था। उसने झोंपड़ी के चारों ओर देखा। उसे एक पेंसिल और उस क्षेत्र का नक्शा मिला। नक्शे से उस व्यक्ति को पता चला कि अभी भी वह मुख्यधारा से बहुत दूर था, लेकिन कम से कम अब वह जानता था कि वह कहाँ है और किस दिशा में जाना है।


उसने आगे की यात्रा के लिए अपनी कुप्पी को पानी से भर दिया। उस व्यक्ति ने बोतल भी भर दी और ढक्कन से उस बोतल को वापिस बंद कर दिया। झोपड़ी छोड़ने से पहले, उसने पहले से लिखे निर्देश के नीचे अपना खुद का लेखन जोड़ा: "मेरा विश्वास करो, यह काम करता है!"


इस कहानी पर हम मनन करें तो हमें महसूस होगा कि यह कहानी जिंदगी के सिद्धांत को दर्शाती है।  


यह हमें सिखाती है कि हमारे जीवन में विश्वास बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। किसी भी चीज को प्रचुर मात्रा में प्राप्त करने से पहले हमें उसे लोगों में बाँटना चाहिए।


इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि यह कहानी हमें सिखाती है कि विश्वास, दूसरों को देने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।


वह आदमी नहीं जानता था कि उसके कार्य का उसे कोई फल मिलेगा भी या नहीं, लेकिन वह परवाह किए बिना आगे बढ़ गया।


बिना किसी उम्मीद के उस व्यक्ति ने चिट्ठी पर विश्वास करके उसमें लिखे हुए निर्देशों का पालन किया। 


जब हम विश्वास पर किसी भी कार्य की नीव रखते है, तो कार्य स्वतः ही सम्पन्न होने लगता है।

Comments

Popular posts from this blog

देवरिया में छह लोगों की हत्या, मोके पर भारी पुलिस बल तैनात:पूरे इलाके में मचा हड़कंप

देवरिया जिले में दिल दहलाने वाली घटना सामने आई है। जिले के रुद्रपुर के निकट फतेहपुर गांव में पुरानी रंजिश के चलते छह लोगों की हत्या कर दी गई है। मौके पर पहुंच कर भारी पुलिस बल द्वारा मामले की छानबीन की जा रही है। घटना को लेकर पूरे इलाके में हड़कंप मचा है। घटनास्थल पर चीख- पूकार से पूरा गांव सहम उठा है। गांव में तनाव का माहौल है। देवरिया जिले में दिल दहलाने वाली घटना सामने आई है। यहां पुरानी रंजिश में छह लोगों की हत्या कर दी गई है। घटना को लेकर पूरे इलाके में हड़कंप मचा है। भारी पुलिस बल तैनात है। गांव में चीख- पुकार मची है। घटना को लेकर चारों तरफ तरह- तरह की चर्चाएं हो रही हैं।

देवरिया में हुवे खूनी संघर्ष में छः लोगो की मौत के बाद योगी ने लिया बड़ा फैसला

देवरिया:रूद्रपुर थाना क्षेत्र के फतेहपुर ग्राम पंचायत में सोमवार की सुबह जमीन विवाद में खूनी संघर्ष हुआ। लेड़हां टोला गांव के सत्य प्रकाश दुबे और गांव के ही अभयपुरा टोला निवासी प्रेमचंद यादव के बीच लंबे समय से जमीन विवाद चल रहा था। दोनों परिवारों में लगातार झगड़े होते रहते थे। सोमवार की सुबह जिला पंचायत सदस्य प्रेमचंद यादव की हत्या की खबर सामने आई। प्रेम यादव की हत्या का जिम्मेदार सत्य प्रकाश दुबे को माना गया। प्रेम यादव के परिजनों ने इस हत्याकांड का बदला लेने की ठानी। उन्होंने सत्य प्रकाश के घर पर हमला बोल दिया। प्रेम यादव के परिजनों ने लाठी-डंडे, ईंट-पत्थर और बंदूकों के साथ हमला बोला था। सत्य प्रकाश दुबे के पड़ोसी जब तक कुछ समझ पाते, उनकी हत्या कर दी गई। इसके बाद हमलावरों ने सत्य प्रकाश दुबे की पत्नी, एक अन्य व्यक्ति और दो बच्चों को निशाना बनाया। हमले में पांचों की मौत हो गई। वहीं, हमले में गंभीर रूप से घायल एक बच्ची की हालत नाजुक बताई जा रही है। मामले की जानकारी मिलते ही डीएम अखंड प्रताप सिंह और एसपी संकल्प शर्मा के साथ भारी संख्या में पुलिस बल मौके पर तैनात है। पुलिस ने शव

यूपी के इस युवक ने पार की हैवानियत की सारी हदें, प्यार के जाल में फंसाकर रेप के बाद बनाया पॉर्न वीडियो, फिर मंगेतर के सामने खोला सच

यूपी के रहने वाले 'युवक की हैवानियत की सारी हदें पार कर दीं। युवक की इस घिनौनी हरकत से पुलिस भी हैरान रह गई। लड़की को पहले अपने प्रेमजाल में फंसाया। आरोप है कि युवक ने पीड़िता को शादी का झांसा देकर कई बार रेप किया। शारीरिक संबंध बनाने के बाद आरोपी युवक ने लड़की का न्यूड फोटो खींच पॉर्न वीडियो भी बना भी लिया। इन्हें वायरल करने का डर बनाकर वह बार- बार रेप करता रहा। लड़की की शादी दूसरे युवक के साथ तय होने पर आरोपी युवक ने मंगेतर को उसके न्यूड फोटो और पॉर्न वीडियो भी दिखा दिए। पुलिस ने केस दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है। पीड़ित लड़की का आरोप है कि युवती के मंगेतर को भी जान से मारने की धमकी दी। यही नहीं, युवती को बहन मानने वाले मुख्य आरोपी के साथी ने भी धोखा दिया। समझौते की बात कहते हुए उसने पीड़िता को आरोपी के पास अकेले छोड़ा। दोनों आरोपियों पर पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है। युवती ने पटेल नगर थाना पुलिस को शिकायत की। इंस्पेक्टर सूर्यभूषण सिंह नेगी ने बताया कि युवती के घर पर यूपी मेरठ निवासी राहुल का आना जाना था। वह उसके घर के पास किराये पर रहा है। उसने शादी की बात कहकर